09/01/2018

खजुराहो अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म महोत्सव ने खोले संभावनाओं के द्वार

तृतीय खजुराहो अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म महोत्सव ने खोले संभावनाओं के द्वार
गीतिका वेदिका
+++++++++++++++++++

तृतीय खजुराहो अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म महोत्सव 2017 में बुंदेली संस्कृति की स्वर्णिम छाप और मुम्बईया प्रस्तुतियों का मिला-जुला प्रभाव जनता जनार्दन को चतुर्थ खजुराहो अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म महोत्सव की प्रतीक्षा दे गया है। तीसरे अंतर्राष्ट्रीय महाकुंभ को बुंदेली धरती पर अवतरित करने का सारा श्रेय राजा बुंदेला को जाता है। निर्देशकएक्टर और प्रयास प्रोडक्शन के प्रमुख राजा बुन्देला एक सर्वकालिक  व्यक्तित्व हैं जो किसी भी परिचय के मोहताज नहीं हैं। प्रयास प्रोडक्शन से मुझे चाँद चाहिएये शादी नहीं हो सकतीकोलगेट टॉप टेनराजपथओ मारिया इत्यादि उल्लेखनीय सीरियल रहे। राजा बुंदेला ने फ़िल्म इंडस्ट्री की कई मशहूर हस्तियों को उनके शुरुआती दौर में इंडस्ट्री से रूबरू करवाया जो आज इंडस्ट्री में अपनी पहचान रखते हैंइनमें प्रमुख हैं- इरफान खानसतीश कौशिकआर्ट डायरेक्टर जयंत देशमुख। वर्तमान में जयंत देशमुख हिंदी फ़िल्म जगत के मशहूर कलानिर्देशक हैं।


राजा बुंदेला जिनकाबुन्देलखण्ड की माटी से लगाव सर्वविदित है और वे राजनैतिक रूप से हाशिये पर डाल दिये गए बुंदेलखण्ड क्षेत्र को देश के मानचित्र पर उचित स्थान दिलाने के लिये सतत प्रयासरत रहे हैं। उन्होंने इसके लिये कई जनांदोलन चलाये। राजा बुंदेला इस महोत्सव की आधारशिलाइस विचार के जन्मदाता हैं उन्होंने इसे मूर्त रूप में साकार किया। अपने शुरुआती दौर में 2015 में यह महोत्सव तीन दिनी रहा जबकि वर्ष 2016 में यह पाँच दिनों तक मनाया गया। इसकी सफलता के आयाम इस वर्ष इसे सफलता के सात दिन दे गए। इन सात दिनों में देश दुनिया से आये हुए अंतरराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त कलाकारों ने शिरक़त की। जहाँ तमाम सिने-अभिनेता जनता के आकर्षण का केंद्र रहे तो वहीं दूसरी ओर बुंदेली संस्कृति को विश्वव्यापी मंच मिला। सिने जगत के प्रसिद्ध चेहरे जिन्होंने एक सदी तक फ़िल्म जगत पर राज कियाइस महोत्सव के विशेष आकर्षण के केंद्र रहे। बॉलीवुड के हीरो जैकी श्रॉफ ने एक पूरा दिन अपने रंग में रंग दिया तो खलनायक रंजीत कपूर के चहेते सम्वाद पापा कहने से दर्शकदीर्घा झूम उठी। सदी के स्थापित खलनायक प्रेम चोपड़ा ने जब अपना पसंदीदा डायलॉग प्रेम नाम है मेरा प्रेम चोपड़ा बोला तो सदन तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा।


फिल्मकार शेखर कपूर को भारत गौरव सम्मान प्रदान करने से इस महोत्सव का श्रीगणेश हुआ। जाने माने फ़िल्म निर्माता-निर्देशक रमेश सिप्पीगोविंद निहलानी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में फ़िल्म निर्माण से सम्बंधित प्रश्नोत्तर काल रखा गया। महोत्सव प्रारम्भ होने के पूर्व दिन का फ़िल्म मेकिंग और रंगकर्म की कार्यशाला सिने जगत व रंगमंच के हस्ताक्षर सुप्रसिद्ध हस्ती सुष्मिता मुखर्जीमीता वशिष्ठ और मनोहर खुशलानी के संरक्षण में आयोजित की गईजिसमें मध्यप्रदेश के कई गाँव-शहर से साथ ही स्थानीय नवांकुर शामिल हुए। जिनमें से तीन नवोदित युवा अनुपम खैरसुभाष घईऔर रमेश सिप्पी की अकादमी में प्रशिक्षित होने को चयनित हुए। महोत्सव के मुख्य व्यवस्थापक की महती भूमिका में फ़िल्म डायरेक्टर राम बुंदेला एवं उनके सहयोगी ललितपुर से निकल के मुम्बई पहुंच के डारेक्शन में अपनी पहचान बनाने वाले राकेश साहू और जगमोहन जोशी (प्रोडक्शन मैनेज हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री) थे। मुख्य आमंत्रित सदस्य के रूप में बलविंदर राल (बिल्लू जी) थेजो तकरीबन तैतीस सालों से हिंदी सिनेमा जगत में बतौर फ़िल्म-सम्पादन (एडिटर) के रूप में स्थापित हैं।

इस सात दिवसीय तृतीय अंतर्राष्ट्रीय खजुराहो फ़िल्म फेस्टिवल 2017 के समापन समारोह का मुख्य आतिथ्य हरियाणा के राज्यपाल महामहिम कप्तान सिंह सोलंकी ने किया। इस फ़िल्म महोत्सव का विशेष आकर्षण खजुराहो में लगाई गईं पांच टपरा टॉकीज रहीं। जिन में दिन भर निःशुल्क फिल्में चलाई गईं जो किसानमहिलासैनिकबेटी पर आधारित थी। टपरा टॉकीज की परिकल्पना इस बात के मद्देनजर की गई क्योंकि क्षेत्र में फ़िल्म थियेटर नगण्य हैंजिनसे कई अच्छी फिल्मों की दर्शकों तक पहुंच नहीं हो पाती। इन टपरा टॉकीज में उन क्षेत्रीय फिल्मों को स्थान मिला जो कि कहीं भी प्रदर्शित नहीं हो पाती हैं। इसके साथ ही बुंदेली व्यंजन की भी व्यवस्था की गई जिसे दर्शक दीर्घा ने खूब सराहा।

राजा बुंदेला अपने प्रयास से बुंदेलखण्ड के उन गाँवकस्बों और शहरों की दहलीज तकजहां तक फिल्में पहुंचना भी मुश्किल थींवहाँ वे फ़िल्मक्षेत्र की मशहूर हस्तियों को ले आये। बुंदेलखण्डवासियों का इन हस्तियों से रूबरू होना एक विशाल उपलब्धि रही। इनमें उल्लेखनीय नाम हैं अभिनेता-अभिनेत्री कँवलजीतअनुराधा पटेलसुशांत सिंहअमित बहलगुलशन पांडेय थे। राजा बुंदेला ने सातों दिन रंगारंग सांस्कृतिक प्रोग्राम के संचालन की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी टीकमगढ़ नगर की प्रसिद्ध कवयित्रीसाहित्यकाररंगकर्मी गीतिका वेदिका को सौंपी। सात दिनों तक चलने वाले इस महोत्सव में उमड़ने वाली हज़ारों की भीड़ ने अपनी सफलता की कहानी खुदबखुद बयां की। यह फ़िल्म फेस्टिवल से कहीं अधिक जन-जन का महोत्सव लगा। यह अद्वितीय त्योहार फ़िल्म-महोत्सव महान अभिनेता स्वर्गीय शशि कपूरओमपुरी एवं टॉम आल्टर को भावपूर्ण श्रद्धांजलि के साथ समर्पित किया गया। इस समारोह ने बुन्देलखण्ड क्षेत्र में फिल्मों से सम्बंधित विकास के द्वार खोले जाने की सम्भावना विकसित की है. बस देखना ये है कि फिल्म जगत से जुड़े लोग बुन्देलखण्ड क्षेत्र की प्रतिभा का, यहाँ के संसाधनों का कैसे उपयोग कर पाते हैं. 


गीतिका वेदिका (साहित्यकारगीतकार)
9826079324

1 comment: